Wednesday, January 18, 2012

प्रेम आलिंगन

आज धुंध को सूरज से लड़ते देखा,

ज़िद थी कि नहीं हटूंगी, यहीं रहूंगी|

सूरज क़ी रौशनी भी फिकी पड़ने लगी,

मानो ज़िद के आगे झुकने लगी||


फिर सूरज का धुंधला चेहरा देखा

आनंदमय, करुणामय, रसपूर्ण किन्तु सावधान!

धुंध क़ी चंचलता को निहारता, मुस्कुराता;

मानो प्रिया का नृत्य देखता||


देखा, फिर उनको फुसफुसाते

दिल क़ी बात एक दूजे को बताते|

ना जाने क्या समझौता हुआ

इनका व्यवहार मेरी समझ से परे हुआ||


देखा दोनों को आँहें भरते,

देखा मैंने धुंध को छंटते|

दो प्रेमियों के आलिंगन में

धुंध का अस्तित्व सिमटता गया||


देखा, देखा मैंने सारा दृश्य

पर ना जाने क्या रह गया?

जीत तो सूरज क़ी रौशनी क़ी हुई,

किन्तु चर्चा फिर भी धुंध क़ी रही||

4 comments:

  1. bliss bliss bliss bliss bliss..!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  2. sringar rash se bhari kabita hai... bahut kuch keh jati hai :)

    ReplyDelete
  3. वाह! कितना सुखद दृश्य है,दोनों हारे, और दोनों जीते!

    ReplyDelete
  4. Great post dear.... Glad to read this post. Please visit my blog and don't forget for give comments and join this site. Thanks very much. http://kangraavalley.blogspot.in/

    ReplyDelete